पोस्ट

अक्तूबर 30, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वकील साहब की बेटी

मेरे सभी दोस्तो को प्रणाम में  विनोद कुमार आप सभी की फरमाइश पर  एक और कहानी लेकर आया हु । एक कहानी जो सभी इंसान के साथ आगे चलके हो सकती है । आप सभी का ज्यादा समय न लेते हुवे अब अपनी कहानी पे चलते है दोस्त की हॉट मॉम एक नई कहानी हमारे परिवार के बाजु में एक वकील साहब का परिवार रहता था । उनके परिवार में सिर्फ तिन ही लोग रहते थे । उनकी लड़की और मिया बीबी, हमारी कहानी की नाईका वकील की बेटी का नाम मोना है । दोस्त की सौतेली मॉम मोना एक मोटी लड़की है, दिखने में कुछ खास नहीं लेकिन उसकी हिप्प काफी मोठे की जो भी देखेंगा ओ उसकी हिप्प एक बार मारने के बारे में सोचेंगा । यह बात उअस समय की है, जब उसकी शादी हो गई तब उसकी  उमर 21 साल की थी । मोना पढाई में अछि थी लेकिन सेक्स के बारे में उसको पता नहीं था । उसकी शादी होने के बाद जब उसके पति ने उसके स्तन दबाये तो मोना को बुरा लगा मोना ने अपने पति से झगड़ा किया और अपने पिता के घर चली आई । मोना की मम्मी ने मोना को समजाके अपने पति के पास भेज दिया । दो तिन दिन अच्छा चला फीर रात को मोना  के पति ने स्तन दबाये तो मोना ने कुछ भी नहीं बोला, मोना का पति समीर बोला की

आदिवासी

में जब आदिवासी लोगो बिच रहने के लिए गया था।मेरी नौकरी होने के कारण मूझे उन लोगों के साथ रहने का अनुमान भी नहीं था। वकील की बेटी मेरी पड़ोसन शबनम लेकीन समय के साथ रहने की जरूरत है और नोकरी तो करना ही पड़ेगी ।इसलिए में अपना सारा सामान लेकर उनके इलाके में गया।  में जब नागपुर रहने के लिए जा रहा था,यह बात तब मेरे साथ एक हादसा हुआ को आप सभी के साथ बताना चाहता हूं।आप सभी को यह बहुत आंनद आएगा ऐसी आशा करता हूं।में एक जंगली जगह , उन लोगों के साथ रहने के लिए गया था। ओ कबीले में करीब२५० लोगो का कबीला था। उस कबीले में सेक्स के लिए कोई भी किसीको मना नहीं करता था।में सरकारी नौकरी पर पटवारी था। सातपुडा पर्वतीय इलाके में मेरा तबादला हुआ।तब मेरी शादी नहीं हुई थी,में अकेला उस जगह पर गया था।मेरी उस कबीले के सरदार से दोस्ती हो गई सरदार का नाम दिलावर था।सरदार का शरीर काफी हट्टा कट्टा था।जब में दिलावर ने मुझे अपने घर ले गया।अपने घर के सभी सद्यस को बुलाया मुझसे मिलने के लिए। शबनम -सैम दोस्त की हॉट मॉम