शबनम - सैम







मेरे को जब नागपुर रहने के लिए जाना था. यह कहानी उस समय की है.शबनम आंटी की चउदसी मेरा नाम सैम   है, मैं महाराष्ट्रा  का रहने वाला हूँ। मैं 19 साल का हूँ, ba 1 में पढ़ता हूँ ! यह मेरी पहली कहानी है और एक साल पहले की सच्ची घटना है। मेरे मोहल्ले में एक अकबर  नाम का आदमी रहता है, मैं उन्हें भाईया कहता हूँ। वे शादीशुदा और चार बच्चों के पिता  हैं, उन्होंने अपने घर में एक कमरे को एक आंटी को किराये पर दे रखा था उनका नाम शबनम है उनकी आयु  30 साल है, उनके  कदकाठी  38-30-38 है, हालांकि वे सांवली हैं फिर भी उनकी भरी  भरी चूचियों को देखते ही कोईभी  चोदना चाहेगा ! उनकी आधी उघड़ी बड़ी चूचियों को देख कर देखने वालों के मुंह  से लाल टपकने लगती है, उनकी नशीली आँखें देख कर जनता  पगली सी  हो जाते हैं।
 हम सभी  उन्हें आँटी कहते हैं, उनके पति  चले गए थे, वे अकेली रहती थी। यह घटना उस दिन की है जब मेरे घर में कोई नहीं था, सभी  2 दिनों के लिए शादी में गए थे ! सबेरे  को मैं  तन्हा सो रहा था कि दरवाजा खटखटाने की स आई। दरवाजा खोलने पर मैंने देखा कि सामने आँटी खड़ी हैं। मैंने पूछा- क्या बात है आँटी? आँटी ने कहा- सैम , मेरा एक काम करोगे? मैंने बोला- हाँ बोलिए, क्या काम है? तो आँटी ने कहा- मुझे मार्केट जाना है, तुम अपने मोटर सायकल  से ले जाओगे? मैंने कहा- ठीक है ! आँटी को कमरे में  बैठा कर अपने कमरे जाकर कपड़े बदलने लगा। मैं नंगा हो चुका था कि अचानक मेरी दरवा जे पर पड़ी मेरे तो दिल  ही खो  गए सामने आँटी खड़ी थी, अब हम दोनों की नज़रें एक  तो   आँटी मुस्कुरा कर चली गई। फिर मैं कपड़े पहन कर आया तो आँटी मुस्कुरा रही थी, मैं आँटी से आँख   हीं नहीं  मिला पा रहा था। तभी आँटी ने मेरे हाथ दबाके   के अपने सीने पर रख लिया। मेरे तो दिल  ही धक् धक् हो  गए, मे मेंरा 9 इंच का लंड खड़ा हो गया। आँटी मेरी पायजामा  देख रही थी, मेरे खड़े लंड को देख रही थी ! मैं  आँटी का हाथ दबाके  कहा- चलिये ! आँटी मुस्कुरा दी। मैं आँटी को मोटरसायकल  पर बैठा कर ले जा रहा था, भीड़  होने के कारण बार बार ब्रेअके मारना   था.। जिससे आँटी के बड़े   मेरी   पीठ से बार बार  रहे थे, मेरा लंड  खड़ा हो गया। किसी तरह से अपने आप को सम्भाला, आँटी ने खरीददारी कर ली और हम घर वापस जाने के लिए निकल रहे थे !रात के  7 बजे  रहे थे,  में उपर   गगन में  बादल छा गए, मौसम खराब हो चुका था, हम लोग जा रहे थे। रास्ते में हल्की हल्की बूँदा बांदी होने लगी।हम लोग घर पहुँचने वाले थे कि बारिश होने लगी तो मैंने आंटी से कहा- आज रात मेरे घर पर रुक जाओ ना ! आंटी मान गई। मैं और आंटी पूरी तरह भीग गए थे, आंटी के    पूरे उभार साफ साफ दिख रहे थे। यह देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया। आंटी मुझे ही देख रही थी। मैंने आंटी से कहा- क्या देख रही हो ऐसे मुझको? तभी अचानक आंटी ने मुझको दबाकर  कर मेरे होंटों को चूमने लगी। आंटी के हॉट  इतना मस्त  लगे मुझे कि मैं तो मदहोश हो गया था। पर तभी मुझे जैसे होश आया, मैं आंटी को हटाकर बोला- यह क्या कर रही हैं आंटी? शबनम आंटी बोली- सैम , मैं बहुत दिनों से तुमसे मिलना चाहती थी। लेकिन मैं डरती थी कि तुम क्या सोचोगे लेकिन आज तुम्हे ऐसे देखा तो लगा कि आज कुछ भी हो जाए, आज अपनी इच्छा पूरी करके ही रहूँगी। और अब तो तुम्हारे खड़े लंड को भी देख लिया है ! इस पर मैं बोला- मैं भी आपको चोदना चाहता था लेकिन डरता था !
 आपके मुंह  से सुन कर मेरा सपना पूरा हो गया। मैं आंटी को अपनी बाहों में दबोचा और  में शनगृह  लेकर नहाने गया। हम दोनों एक दूसरे के गीले कपड़े उतारने लगेमैं आंटी की चुच्चियाँ दबाने लगा, ओह, चुच्ची नहीं चुच्चे ! आंटी के खरबूजे जैसे विशाल स्तन कड़क हो चुके थे, ये इतने बड़े-बड़े थे कि एक हाथ से दबा नहीं पा रहा था, दोनों हाथों से एक को दबाना पड़ रहा था ! आंटी का हाथ मेरे कच्छे पर आया तो मैंने तुरंत अपना कच्छा खोल कर लौड़ा बाहर निकाला। आंटी मेरे लंड को देख कर हैरान हो गई, आंटी बोली- इतना लम्बा और मोटा लंड कभी नहीं देखा मैंने ! आंटी तुरंत मेरा लंड अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी। हम लोग 69 की अवस्था में आकर मजे करने लगे। आंटी की फ़ुद्दी से नमकीन रस निकल रहा था, मैं अपनी जीभ से शबनम की चूत चोद रहा था। आंटी ने कहा- अब रहा नहीं जाता, चोद दे मुझे ! तुरंत मैं आंटी को बेडरूम में लाया उन्हें बिस्तर पर लिटा कर अपना लंड आंटी की योनि के लबों पर रखा, और एक झटका मारा। आंटी के मुँह से चीख निकल गई, कहने लगी- धीरे धीरे घुसा ना ! बहुत दिन से इसने लौड़ा नहीं लिया है। आंटी की चूत एकदम कसी थी काफी दिनों से चुदी नहीं थी। मैं अपना लण्ड हल्का हल्का अन्दर धकेलने लगा। फ़िर एक झटका मारा तो 3 इंच तक लंड अंदर चला गया। आंटी तड़प कर उछल गई। मैंने सोचा एक बार में ही पूरा अन्दर कर देता हूँ, जोर से एक झटका और मारा, पूरा लंड एक ही बार में अंदर चला गया। आंटी की आँखों से आँसू निकलने लगे, आंटी चिल्ला रही थी, कह रही थी- मुझे छोड़ दे ! मुझे नहीं चुदना तेरे से ! मैं दो मिनट के लिए वैसा ही पड़ा रहा, फिर मैं लंड अंदर-बाहर करने लगा। दर्द कम हो जाने के कारण आंटी को मजा आने लगा। मैं चोद रहा था तो आंटी की सिसकारियाँ निकलने लगी। अब मैं जोर जोर से चोद रहा था, पूरा कमरा पलंग की हिच हिच की आवाज से गूंज रहा था।
आंटी आह... आह... आह... ई... ऊ... ऊ... ई... कर रही थी, मैं जन्नत की सैर कर रहा था। 15 मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था, हम दोनो ने एक दूसरे को कस कर जकड़ लिया और साथ साथ झड़ने लगे। दो मिनट हम दोनो तक वैसे ही रुके रहे, फ़िर कुछ आखिरी झटके धीरे धीरे लगाए। चुदाई के दौरान आंटी एक बार बीच में झड़ चुकी थी। फिर हम लोग कुछ देर बाद नहाने गए। नहा कर कपड़े पहन कर आंटी ने रसोई में जाकर खाना बनाया। हलोखाना कर टीवी देखने लगे। रात के दस बज रहे थे, अचानक आंटी बोली- चलो चोदा-चोदी करते हैं। मैंने टीवी बंद किया, आंटी को बेड पर लिटाकर को चूमने लगा। आंटी ने कहा- मेरी चूत में उंगली डाल कर मुझे गर्म कर ! मैं तुरंत शबनम की चूत में उंगली करने लगा, आंटी अकड़ने लगी, मैं समझ गया कि वो तैयार हो रही हैं, इधर आंटी ने मेरा लौड़ा भी सहला कर तैयार कर लिया था। मैंने चूत पर लंड रखा एक ही झटके में पूरा लंड अंदर कर दिया और रात भर आंटी को इतना चोदा कि सुबह वो ठीक से चल नहीं पा रही थी। अब जब भी मौका मिलता है, हम चुदाई करते हैं। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वकील साहब की बेटी

मेरी पड़ोसन शबनम