मेरी पडोसन सिमरन


मेरा नाम विनोद है मेरी उमर २८साल है। दोस्तों अब मैं तुम्हे अपनी सच्ची कहानी बता रहा हूं। मेरा दोस्त रवि और राज है उसमें से रवि तो बहुत ही हरामी है।

पिछले साल हमारे पड़ोस में एक मुस्लिम औरत और उसका पति रहने आया। औरत का नाम शबनम था, वो क़रीब 30 साल की थी। हम दोनों में काफ़ी अच्छी बोलचाल थी। वो मुझे अपना फ़्रेंड मानती थी।
एक दिन मैं शबनम के घर गया, वो अपने घर के कपड़े धो रही थी पर उसका आधा स्तन सामने से बाहर निकला हुआ नजर आ रहा था। मेरा लंड एक दम फ़ूल गया। शबनम ने मुझे देखा और अपने मम्मे छुपा लिया। मैंने उसे ऐसी नजर से नहीं देखा था।

शाम को मैं और रवि घर के बाहर खड़े हुए थे।शबनम झाड़ू मार रही थी और मुझे फिर उसका ब्लाऊज़ में से उसके उरोज दिखे। रवि उसे देख कर बोला कि इतना बढ़िया माल हमारे पास है और हमारी उस पर नजर ही नहीं है।

वो एक दिन शबनम और हम तीनों को घुमाने ले गया। सारिका का पति उस समय बाहर गया हुआ था। उस दिन काफ़ी रात हो गयी थी। हम सब अपनी वैन में ही थे।

शबनम तो कार पर ही बैठे बैठे सो गयी थी। उसका पल्लू नीचा हो गया और डीप गला होना के कारण शाबनम का आधा मोमा नज़र आने लगा। स्पीड ब्रेकर पर तो वो 75% बाहर आ जाता था। रवि से रहा नहीं गया, उसने गाड़ी बहुत सुनसान जगह पर खड़ी कर दी।रवि शबनम का मोमा चूसना लग गया।शबनम चिल्लायी- ये क्या रहा है?
रवि बोला- अपनी भूख मिटा रहा हूँ।
वो बोली- प्लीज ऐसा मत करो… मेरा पति को पता चल गया तो

?रवि बोला- यार टेन्शन मत ले… उसे पता नहीं चलेगा।
आह बोलकर रवि शबनम का मोटा मोटा मोमा चूसने लगा।

धीरे धीरे शबनम को मज़ा आने लगा।

फिर क्या था में भी आ गया। उसका चिकना चिकना मोमा चूसने का कारण बहुत मोटा हो गया था। फिर हमने उसको पूरी नंगी कर दिया। नंगी औरत मैंने पहली बार देखी थी।
रवि ने शबनम के मुंह में अपना लंड डाला। शबनम बोली उसको को लण्ड चूसना नहीं आता था।
फिर रवि ने उसे ‘लंड कैसे चूसते हैं’ ये सिखाया।

फिर मेने शबनम की चूत में अपना लण्ड डाला और जोर जोर से शबनम की चूत चुदाई करने लगा। शबनम की चूत इतनी नहीं खुली हुई थी। चूत मारते समय रवि का पूरा सर हिल रहा था। रवि का लण्ड झड़ने को हुआ और माल उसकी चूत में ही निकाल दिया।
फिर शबनम को मेने ने चोदा। ये सब 3 बजे तक चलता रहा। शबनम की वासना पूरी मिट चुकी थी।

उसको अब उसे लण्ड खाने की लत लग गयी थी।

अगले दिन मेने ने शबनम की गाण्ड भी मारी। अब तो वो रोज ही पांच घण्टा चुदाती थी।

एक महीने बाद शबनम का बदन पूरा भर कर मस्त दिखने लगा था। उसकी गाण्ड पूरी भर कर गोलाई में आ गयी थी। उसकी चूचियां मोटी होकर अब बहुत बाहर आ गयी थी। अब वो बहुत मस्त दिखने लगी थी।

मेरे पास शबनम की कई नंगी फोटो हैं। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शबनम - सैम

जवान चाची उनकी बहेने

वकील साहब की बेटी